प्यार चाहिए [संगीतकार के स्वर में - 5]

मौलिक संगीत का सन्दर्भ आने पर शायद ही किसी को संगीतकार बप्पी लाहिड़ी का नाम याद आता हो परन्तु मधुर संगीत के लिए उनका नाम हिन्दी संगीत प्रेमियों के लिये नया नहीं है. एक लम्बे समय से उन्होने हिट् हिन्दी गीत दिये हैं. शेरन प्रभाकर, आलिशा चिनाय जैसे गायकों का परिचय हिन्दी संगीत जगत से कराने का श्री उन्हें ही जाता है. उनके द्वारा "ट्रुथ हर्ट्स" पर संगीत चोरी का मुकदमा चर्चित रहा था. अंत में बप्पी की विजय हुई. आइये सुनते हैं बप्पी लाहिड़ी के स्वर में १९८० की फिल्म मनोकामना का "तुम्हारा प्यार चाहिए..." सुनने के लिये नीचे प्लेयर पर क्लिक कीजिये:



सम्बंधित कड़ियाँ:
हारे भी तो बाज़ी हाथ नहीं
किस्मत के खेल निराले - रवि
पास रहकर भी कोई - जतिन पंडित
रूठ के हमसे कहीं - जतिन पंडित

2 comments:

  1. प्रियदर्शिनी तिवारी Says:

    बिलकुल सही कहा आपने .बप्पी जी ने एक साथ अनगिनत गानो को कंपोज़ किया है ८० के दशक मै युवा वर्ग उनके म्यूज़िक का दीवाना था .

  2. Vinay Prajapati 'Nazar' Says:

    बहुत सुन्दर, आप सही फरमा रहे हैं